Archive | मार्च, 2015

संकीर्णता की चेतना

21 मार्च

हाल ही में मेरे परिवार में भतीजे की शादी का अवसर था । सभी कुछ भली भांति चल रहा था ।  हर और आनंद ही आनंद छाया हुआ था । अचानक शादी की अगली रात मेरे  भाई और  मेरे जीजाजी में कुछ बात को ले कर कहासुनी हो गई । वैसे ये कहासुनी के पीछे ग़लतफ़हमी ही हुई थी या यूं समझे कि काफी समय से मन में चल रहे मनगढ़ंत सवालों से जूझ रहे थे दोनों के मन । जो भी हो पर कहीं न कहीं दोनों के विश्वासों पर ठेस लगी थी । मामला बिचकता जा रहा था । तभी मेरे कानों ने सुना…भई इन्हों से अपने पितृ या देवी-देवताओं के लिये कोई चूक तो नहीं हो गई ? ज्यादातर हम हिन्दू इस बात से डरते हैं कि अगर हम ने नियमित रूप से और ठीक प्रकार से अपने गाँव के देवताओं को संतुष्ट नहीं किया , तो देवता और देवियाँ परेशान हो जाएंगे और इसके कारण हमारे अच्छे बुरे अवसरों में नकारात्मक घटनाएं घट सकती है । इसलिए अवसर के मौके पर देवताओं का तुष्टीकरण करने हेतु उनकी पूजा की जानी चाहिये । इस प्रकार की पूजा के पीछे जो आधार है वो डर है, विशेष तौर से अगर हम अपने अनुष्ठान संबंधी दायित्वों में चूक करेंगे , हमें दंडित होना पड़ेगा या फिर हम किसी तरह से पीड़ा पाएंगे ।

मेरा नीजि तौर से मानना है कि हमारे भगवान क्रोध, पीड़ा पहुंचाना, न्याय , प्रतिशोध या संकीर्णता की चेतना में नहीं रह सकते । वे प्रेम एवं प्रकाश के प्राणी हैं , हम पर अपना आशीर्वाद बरसाते हैं , बावजूद इसके कि हम असफल हों, कमजोर हों या हम में और कमियाँ हों। इस विश्वास की मूल भूत भावना को रखते हुए ही हमारा हिंदू धर्मएक आनंद पर आधारित धर्म है , जिसमे किसी को पितृ या भगवान से कभी भी डर ने की आवश्यकता नहीं है , इस बात के लिए कभी परेशान होने की आवश्यकता नहीं है कि अगर हम पूजा नहीं करेंगे तो पितृ या भगवान आहत हो जाएंगे या हमें किसी तरह की सजा देंगे। पूजा उच्चतम मायनों में प्रेम का बाहर निकल कर बहना है । भगवान प्रेम हैं और कुछ और नहीं परंतु प्रेम हैं और हमारे पूर्वज तो हमारे अपने हैं वे भला हमें दुःखी कैसे कर सकते हैं ?

सही कहूं तो हमारा हिंदू धर्म एक ऐसा आनंदमय धर्म है , जो कि पश्चिम के धर्मों में प्रचलित सभी मानसिक ऋण के भार से मुक्त है । यहाँ श्रद्धा  है , ये अंधश्रध्धासे मुक्त है । जब नकारात्मक घटनाएँ घटती हैं, जैसे कि शादी में विध्न, बच्चे कि मौत , बाढ़ या अचानक बीमारी, बड़े लोग जरूरी अनुष्ठानों में हुई कमियों को ढूंढते हैं , यह मानते हुए कि देवता उनसे हुई पूजा के किसी पहलू की कमी के लिए दंडित कर रहे हैं । अगर हम इन तथ्यों में विश्वास रखें तो मुझे आशा है कि भगवानों कि प्रकृति कि बेहतर समझ से ऐसे अंधविश्वासों पर काबू करने में मदद मिलेगी ।

हिन्दू दर्शन यह सिखाता है कि हमारे जीवन में जो घटता है , वह चाहे सकारात्मक हो या नकारात्मक , वह हमारे पूर्व जन्म के किए गए कार्यों का परिणाम होता है । एक चिंताजनक स्थिति स्वयं के द्वारा पैदा किया गया दुर्भाग्य है । भगवान द्वारा दिया गया दंड नहीं । जीवन जो आनंद और दुख, उत्साह और अवसाद , सफलता और विफलता, स्वास्थ्य और बीमारी , अच्छे और बुरे समय का अनुभव होता है वह महज एक इत्तफाक ही होता है । पुजा अनुष्ठान उन्हें संतुष्ट करने या उनके गुस्से को शांत करने हेतु नहीं किए जाते बल्कि उनके प्रति प्रेम व्यक्त करने एवं उनका आशीर्वाद और मार्गदर्शन लेने का आवाहन करने हेतु किए जाते हैं ।

अनुष्ठान द्वारा तुष्टीकरण का एक शास्त्रीय उद्देश्य भी है कि  नकारात्मक ऊर्जा से बचा जाये जो हमारे जीवन को परेशान करती हैं । एक अन्य दृष्टिकोण से अगर हम देवी-देवता एवं पितृओं के दयालु स्वभाव को समझने का प्रयास करें और ऐसा करते हुए मन में बसे पुराने भय को निकाल दें , तो हमें भगवान या देवी-देवता व पितृओं को एक माता पिता के रूप में और स्वयं को एक बच्चे के रूप में देखना होगा । सच्चे मायने में तो ये हमारे लिये एक सम्पूर्ण माता पिता के समान हैं , क्योंकि चाहे हम कुछ भी करें , ये हमें सदेव आशीर्वाद और प्रेम भेजते हैं । जब हम गलती करते हैं वे कभी हम से नाराज़ नहीं होते एवं हमें कभी दंडित नहीं करते । इन का प्रेम उत्तम प्रेम है , जो हर समय मौजूद रहता है , सभी हालत में ।

 कमलेश अग्रवाल

Advertisements

अनुभूति

2 मार्च

एक बार एक व्यक्ति नाई की दुकान पर अपने बाल कटवाने गया| नाई और उस व्यक्ति के बीच में ऐसे ही बातें शुरू हो गई और वे लोग बातें करते-करते भगवान के विषय पर बातें करने लगे|

तभी नाई ने कहा – “मैं भगवान के अस्तित्व को नहीं मानता और इसीलिए तुम मुझे नास्तिक भी कह सकते हो”

“तुम ऐसा क्यों कह रहे हो”  व्यक्ति ने पूछा|

नाई ने कहा –  “बाहर जब तुम सड़क पर जाओगे तो तुम समझ जाओगे कि भगवान का अस्तित्व नहीं है| अगर भगवान होते, तो क्या इतने सारे लोग भूखे मरते? क्या इतने सारे लोग बीमार होते? क्या दुनिया में इतनी हिंसा होती? क्या कष्ट या पीड़ा होती? मैं ऐसे निर्दयी ईश्वर की कल्पना नहीं कर सकता जो इन सब की अनुमति दे”

व्यक्ति ने थोड़ा सोचा लेकिन वह वाद-विवाद नहीं करना चाहता था इसलिए चुप रहा और नाई की बातें सुनता रहा|

नाई ने अपना काम खत्म किया और वह व्यक्ति नाई को पैसे देकर दुकान से बाहर आ गया| वह जैसे ही नाई की दुकान से निकला, उसने सड़क पर एक लम्बे-घने बालों वाले एक व्यक्ति को देखा जिसकी दाढ़ी भी बढ़ी हुई थी और ऐसा लगता था शायद उसने कई महीनों तक अपने बाल नहीं कटवाए थे|

वह व्यक्ति वापस मुड़कर नाई की दुकान में दुबारा घुसा और उसने नाई से कहा – “क्या तुम्हें पता है? नाइयों का अस्तित्व नहीं होता”

नाई ने कहा – “तुम कैसी बेकार बातें कर रहे हो? क्या तुम्हें मैं दिखाई नहीं दे रहा? मैं यहाँ हूँ और मैं एक नाई हूँ| और मैंने अभी अभी तुम्हारे बाल काटे है|”

व्यक्ति ने कहा –  “नहीं ! नाई नहीं होते हैं| अगर होते तो क्या बाहर उस व्यक्ति के जैसे कोई भी लम्बे बाल व बढ़ी हुई दाढ़ी वाला होता?”

नाई ने कहा – “अगर वह व्यक्ति किसी नाई के पास बाल कटवाने जाएगा ही नहीं तो नाई कैसे उसके बाल काटेगा?”

व्यक्ति ने कहा –  “तुम बिल्कुल सही कह रहे हो, यही बात है| भगवान भी होते है लेकिन कुछ लोग भगवान पर विश्वास ही नहीं करते तो भगवान उनकी मदद कैसे करेंगे|”

सारांश

विश्वास ही सत्य है| अगर भगवान पर विश्वास करते है तो हमें हर पल उनकी अनुभूति होती है और अगर हम विश्वास नहीं करते तो हमारे लिए उनका कोई अस्तित्व नहीं|  

नेट के सौजन्य से…